Shayari hindi,Shayari whatsapp status,Shayari status,Shayari,Hindi shayari sad,Hindi shayari image,Hindi shayari love,Hindi shayari video, Hindi shayari status,Shayari,Hindi,Hindi shayari,computer tutorial,computer basic tutorial,Computer advanced tutorial,corel draw tutorial, coreldraw advanced tutorial,corel draw basic tutorial,corel draw tips & tricks,photoshop tutorial,photoshop advanced tutorial,photoshop basic tutorial,photoshop tips & tricks

मंगलवार, जनवरी 04, 2022

बचपन के यारों को अब हम याद नहीं | Bachpan par kavita | Childhood Missing Poem by shivanand verma

बचपन के यारों को अब हम याद नहीं | Bachpan par kavita | Childhood Missing Poem by shivanand verma


=====================
उलझ गएँ जीवन के भँवर में,
सपनों वाले अब वो रात नहीं,
पाई हमनें दुनिया की खुशी जिनसे,
बचपन के यारों को अब हम याद नहीं।

Ulajh Gaye Jivan Ke Bhawar Me,
Sapno Wale Ab Wo Raat Nahi,
Pai Hamne Duniya Ki Khushi Jinme,
Bachpan Ke Yaro Ko Ab Hum Yad Nahi.
बेगाने थे दुनियादारी से,
जिम्मेदारी की थी कोई बात नहीं,
कदम-कदम पर थे साथ जो हर पल,
बचपन के यारों को अब हम याद नहीं।

Begane The Duniyadari Se,
Jimmedari Ki Thi Koi Baat Nahi,
Kadam-Kadam Par The Sath Jo Har Pal,
Bachpan Ke Yaro Ko Ab Hum Yad Nahi.
तर्क में तर्क मिलाते थे जो,
अब लगती है अपनी ही हर बात सही,
खुद से ही करने पड़ते समझौते सब,
बचपन के यारों को अब हम याद नहीं।

Tark Me Tark Milate The Jo,
Ab Lagit Hai Apni Hi Har Bat Sahi,
Khud Se Hi Karne Padte Samjhauti Sab,
Bachpan Ke Yaro Ko Ab Hum Yad Nahi.
वो कहते, यादों के लिए अब वक्त कहाँ,
जीवन-यापन की आँधी में ख़ुशी की कोई सौगात नहीं,
कोल्हू के बैल सा खटते गुज़र-बसर को,
बचपन के यारों को अब हम याद नहीं।

Wo Kahte Yado Ke Liye Ab Waqt Kahan,
Jivan Yapan Ki Aandhi Me Khushi Ki Koi Saugat Nahi,
Kolhu Ke Bail Sa Khatte Guzar - Basar Ko,
Bachpan Ke Yaro Ko Ab Hum Yad Nahi.
मिलें जो वर्षों बाद किसी मोड़ पर,
मुश्किलों से हुई पहचान सही,
अश्रुधारा ने तोड़ दिए बाँध सब,
बचपन के यारों को अब हम याद नहीं।

Mile Jo Varso Baad Kisi Mod Par,
Mushkilo Se Hui Pahchan Sahi,
Ahru Dhara Ne Tod Diye Band Sab,
Bachpan Ke Yaro Ko Ab Hum Yad Nahi.
हे ईश्वर तेरी ये कैसी माया,
सबके मन में क्यों, पहले वाले ज़ज़्बात नहीं,
पत्थर सा किया क्यों कोमल मन को,
बचपन के यारों को क्यों अब हम याद नहीं।

He Ishwar Teri Ye Kaisi Maya,
Sabke Man Me Kyo Pahle Wale Zazbat Nahi,
Patthar Sa Kiya Kyu Komal Man Ko,
Bachpan Ke Yaro Ko Ab Hum Yad Nahi.

=====================


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें